नगीना लोकसभा सुरक्षित से पूर्व अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार होंगे सपा प्रत्याशी।

…………………………………………………………………….
Tanveer Ansari
Editor Dailylive24.com
Dailylive24 you tube channel
9410275551/7017977582
…………………………………………………………………….
बिजनौर/नगीना। समाजवादी पार्टी ने नगीना लोकसभा सुरक्षित से अपने प्रत्याशी की घोषणा कर लंबे समय से चली आ रही खींचतान पर पूर्ण विराम लगा दिया है। समाजवादी पार्टी के ट्विटर हैंडल X  से की गई पोस्ट में नगीना लोकसभा सुरक्षित से पूर्व अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार को समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी बनाने की जानकारी जैसे ही दी गई वैसे ही सपा प्रत्याशी मनोज कुमार के चाहने वालों में खुशी की लहर दौड़ गई।
आपको बताते चलें आगामी लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर सपा व कांग्रेस में यूपी की 80 लोकसभा सीटों को लेकर दोनों ही पार्टियां आपस में गठबंधन कर चुनाव मैदान में है। सपा यूपी की 63 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार कर चुनावी मैदान तैयार कर रही है। तो वही कांग्रेस भी यूपी की 17 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार कर भाजपा को यूपी के रास्ते दिल्ली जाने से रोकने के लिये मैदान में उतरने की तैयारी कर चुकी हैं।
इन सबके बीच शुक्रवार को देर शाम समाजवादी पार्टी की ओर से अलग अलग लोकसभा क्षेत्रों के सात प्रत्याशियों की घोषणा की गई। जिसमें नगीना लोकसभा सुरक्षित सीट से पूर्व अपर एवं सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार को टिकट देकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ये साफ संदेश दे दिया है कि समाजवादी पार्टी नगीना लोकसभा सुरक्षित और बिजनौर लोकसभा सीट से अपने दम पर चुनावी मैदान में उतरकर चुनाव लड़ेगी।
समाजवादी पार्टी ही दलितों और पिछड़ों की सच्ची हितैषी।
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने नगीना लोकसभा सुरक्षित सीट से पूर्व अपर एवं सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार को टिकट देकर ये साफ संदेश दे दिया है कि समाजवादी पार्टी ही दलितों व पिछड़ों की सच्ची हितैषी है। क्योंकि समाज सेवा, दलित मजलूमों की आवाज बुलंद करने के लिये जज जैसे गरिमापूर्ण पद को त्याग कर राजनीति में कदम रखने वाले साथ ही कुछ ही समय में क्षेत्र की जनता से सीधा संवाद कर उनके दुःख दर्द बांटने वाले पूर्व जज मनोज कुमार को समाजवादी पार्टी से सपा का प्रत्याशी बनाकर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ये बताने का प्रयास किया है कि सपा में ही सभी का हित सुरक्षित है।
 
मनोज कुमार पूर्व अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने आखिर क्यों छोड़ी नौकरी।
पूर्व जज मनोज कुमार का जन्म 16 अप्रैल 1978 को चंदौली में हुआ था। संत रविदास जी की जन्म भूमि से 2001 में एलएलबी की। उनकी पहली पोस्टिंग अपर सिविल जज जूनियर डिवीजन गाज़ीपुर में हुई। जिला गाजीपुर, बरेली, महुआ, शाहजहांपुर, प्रयागराज, इलाहाबाद, लखनऊ, बस्ती, नोएडा, गौतमबुद्धनगर, सीतापुर, बांदा के बाद बिजनौर में 2022 से 2023 तक अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभाला। दलित समाज में पिछड़ापन, अशिक्षा, बेरोजगारी जैसी बीमारियों को जड़ से खत्म करने के लिये पूर्व अपर एवं सत्र न्यायाधीश ने राजनीति के माध्यम से समाज सेवा करने को जज जैसे गरिमा पूर्ण पद को त्याग कर राजनीति में कदम रखा है। ताकि अपने दलित व पिछड़े समाज के लोगों के बीच रहकर उनकी लड़ाई को लड़ सकें।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *